आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन की शिकायत C-vigilapp एप के माध्यम से

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की प्रेस कांन्फ्रेंस दिनांक 10.10.2018

1. स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने में नागरिकों की भागीदारी और जवाबदेही बढ़ाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग आगामी विधानसभा चुनाव में C-vigil (Vigilant Citizen) online mobileappलेकर आयी है।

2. इस एप के माध्यम से आम नागरिक विधानसभा चुनाव के दौरान आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन की शिकायत रिटर्निंग आफिसर को पहुंचा सकता है।

3. C-vigilappका उपयोग कर कोई भी व्यक्ति आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन की गतिविधि या घटनाओं की रिपोर्ट मिनटों में दर्ज करा सकता है। इसके लिए अब उसे रिटर्निंग आफिसर के पास जाने की जरूरत नहीं होगी।

4. C-vigil एक सरल और user-friendly mobile appहै। इस एप के जरिए कोई भी आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन की गतिविधियों का फोटो खींचकर या वीडियो बनाकर तत्काल शिकायत दर्ज करा सकता है। जिम्मेदार प्राधिकारी द्वारा गतिविधि स्थल पर पहुंचकर इस पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी। एप पर दर्ज की गई शिकायत की जानकारी स्वतः ही जिला निर्वाचन अधिकारी, नियंत्रण कक्ष, Field Verification Unit, Flying Squad याStatic Surveillance Teamतक पहुंच जाएगी।

5. एप में रिपोर्ट की गई सभी शिकायतों की तत्काल ट्रैकिंग की जाएगी। एप से प्राप्त शिकायतों पर Field Verification Unit, Flying Squadया Static Surveillance Teamमौके पर पहुंचकर जरूरी कार्रवाई करेगी। शिकायतकर्ता द्वारा एप पर अपलोड की गई तस्वीर या वीडियो से गतिविधि स्थल की जानकारी टीम को मिल जाएगी।

6. छत्तीसगढ़ में पहले चरण के लिए नामांकन की प्रक्रिया (16 अक्टूबर) शुरू होते ही यह एप काम करना शुरू कर देगा। चुनाव प्रक्रिया के के पूर्ण होते ही यह एप निष्क्रिय हो जाएगा।

7. भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली के सूचना प्रौद्योगिकी निदेशक डॉ. कुशल पाठक और निर्वाचन व्यय निगरानी के निदेशक श्री बी.सी. बत्रा ने आज समस्त रिटर्निंग आफिसर, सहायक रिटर्निंग आफिसर और सभी जिलों के C-vigil नोडल अधिकारियों तथा तकनीकी स्टाफ को c-vigil app के बारे में प्रशिक्षण दिया। उन्होंने इस संबंध में अधिकारियों की जिज्ञासा का भी समाधान किया।

8. C-vigil सभी एंड्राइड आधारित स्मार्टफोन को सपोर्ट करता है। किसी भी कैमरा वाले एंड्राइड स्मार्टफोन, 3G या4G Internet Connection और GPS Access से कोई भी नागरिक इस एप का उपयोग कर सकता है। यह एप Android Jellybean Operating System या इसके बाद आए Operating System पर काम करता है।

9. शिकायतकर्ता तक उसके शिकायत पर हुई कार्यवाही की जानकारी 100 मिनट में एप पर अपलोड कर दी जाएगी।

10. यदि कोई शिकायतकर्ता अपनी पहचान गुप्त रखकर एप के माध्यम से शिकायत दर्ज कराना चाहता है, तो उसका भी प्रावधान इस एप पर है।

11. इस एप में MCC/EEM के सिवाय कोई भी शिकायत नहीं होगी। ऐसी शिकायत होने पर तुरंत निरस्त की जाएगी।

12. यदि एक ही व्यक्ति एक ही शिकायत को बार-बार एप में लोड करेगा, तो उसकी सिर्फ एक बार जांच कर निराकरण किया जाएगा। बाकी शिकायत प्रांरभिक स्तर पर ही निरस्त कर दिए जाएंगे।

13. यदि एक ही शिकायत को कई व्यक्ति अलग-अलग एप में लोड करेंगे, तो एक बार जांच कर समान निराकरण किया जाएगा।

14. इस एप को चलाने के लिए मोबाइल एप में लोकेशन सर्विसेस (GPS) आॅन करना आवश्यक होगा।

‘विधानसभा निर्वाचन-2018‘ : सी-विजिल एप के जरिए आम नागरिक भी आचार संहिता के उल्लंघन की कर सकेंगे शिकायत
आगामी विधानसभा निर्वाचन में सी-विजिल एप का
पहली बार होगा इस्तेमाल, शिकायत पर होगी त्वरित कार्रवाई

भारत निर्वाचन आयोग के अधिकारियों ने रिटर्निंग ऑफिसरों, नोडल अधिकारियों तथा तकनीकी स्टाफ को
सी-विजिल एप का दिया प्रशिक्षण
रायपुर, 10 अक्टूबर 2018 स्वतंत्र और निष्पक्ष निर्वाचन सुनिश्चित करने में नागरिकों की भागीदारी और जवाबदेही बढ़ाने के लिए छत्तीसगढ़ में आगामी विधानसभा निर्वाचन के दौरान सी-विजिल (ब्.टपहपस) ऑनलाइन मोबाईल एप का पहली बार इस्तेमाल किया जाएगा। इसके जरिए आम नागरिक भी आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन की शिकायत रिटर्निंग ऑफिसर तक पहंुचा सकेंगे। सी-विजिल एप का उपयोग कर कोई भी व्यक्ति आचार संहिता के उल्लंघन की गतिविधि या घटनाओं की रिपोर्ट मिनटों में दर्ज करा सकता है। इसके लिए अब उसे रिटर्निंग ऑफिसर के पास जाने की जरूरत नही होगी। भारत निर्वाचन आयोग, नई दिल्ली के सूचना प्रौद्योगिकी निदेशक डॉ. कुशल पाठक और निर्वाचन व्यय निगरानी के निदेशक श्री बी.सी. बत्रा ने आज रायपुर के नवीन विश्रामगृह ऑडिटोरियम में रिटर्निंग ऑफिसरों, सहायक रिटर्निंग ऑफिसरों, सभी जिलों के सी-विजिल नोडल अधिकारियों और तकनीकी स्टाफ को इस एप के बारे में गहन प्रशिक्षण दिया। उन्होंने इस संबंध में अधिकारियों की जिज्ञासा का भी समाधान किया। इस दौरान मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री सुब्रत साहू, अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस. भारतीदासन और संयुक्त निर्वाचन पदाधिकारी श्रीमती पद्मिनी भोई साहू सहित मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

भारत निर्वाचन आयोग के सूचना प्रौद्योगिकी निदेशक डॉ. कुशल पाठक ने प्रशिक्षण में अधिकारियों को बताया कि सी-विजिल मोबाईल एप सभी एंड्राइड आधारित स्मार्टफोन पर काम करता है। किसी भी कैमरा वाले स्मार्टफोन, थ्री-जी या फोर-जी इंटरनेट कनेक्शन और जीपीएस एक्सेस से कोई भी नागरिक इस एप का उपयोग कर सकता है। एप पर दर्ज शिकायत पर हुई कार्यवाही की जानकारी 100 मिनट में एप पर अपलोड कर दी जाएगी। आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन और निर्वाचन व्यय से संबंधित शिकायतें ही एप पर स्वीकार की जाएंगी। अन्य शिकायतों को निरस्त कर दिया जायेगा। छत्तीसगढ़ में पहले चरण के लिए नामाकंन की प्रक्रिया (16 अक्टूबर) शुरू होते ही यह एप काम करना शुरू कर देगा। चुनाव प्रक्रिया के पूर्ण होते ही एप निष्क्रिय हो जाएगा।
डॉ. पाठक ने बताया कि सी-विजिल एक सरल मोबाईल एप है। इसके जरिए आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की फोटो खींचकर या वीडियो बनाकर तत्काल शिकायत दर्ज करायी जा सकती है। एप पर दर्ज की गयी शिकायत की जानकारी स्वतः ही जिला निर्वाचन अधिकारी, नियंत्रण कक्ष, फील्ड वेरिफिकेशन यूनिट, उड़नदस्ता या निगरानी के लिए गठित दूसरी टीमों तक पहुंच जाएगी। एप में रिपोर्ट की गई शिकायतों की तत्काल ट्रेकिंग कर उड़नदस्ता या निगरानी दल मौके पर पहुंचकर जरूरी कार्रवाई करेगी। शिकायतकर्ता द्वारा एप पर अपलोड की गई तस्वीर या वीडियो से गतिविधि स्थल की जानकारी निगरानी दल को मिल जाएगी। एक ही घटना की शिकायत कई व्यक्तियों द्वारा किए जाने पर शिकायत की जांच एक बार ही की जाएगी। इसी तरह से यदि कोई व्यक्ति एक ही घटना की शिकायत एप पर बार-बार दर्ज कराता है तो भी उसकी जांच एक बार कर उसका निराकरण किया जाएगा। यदि कोई शिकायतकर्ता अपनी पहचान गुप्त रखकर शिकायत दर्ज कराना चाहता है तो उसका भी प्रावधान इस एप पर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com