जगदलपुर मुण्डागांव में किसान संगोष्ठी और प्रशिक्षण का किया गया आयोजन

जगदलपुर, 01 अक्टूबर 2018 बस्तर विकास खण्ड के ग्राम मुण्डागांव में सोमवार को किसान संगोष्ठी और प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सांसद श्री दिनेश कश्यप ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा किसानों की आर्थिक स्थिति को बेहतर करने के लिए संकल्पित होकर कार्य किया जा रहा है। किसानों की उपज का बेहतर मूल्य देने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा इस वर्ष धान एवं मक्का सहित सहित लघु धान्य फसल, दलहन और तिलहन फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य ऐतिहासिक तौर पर दो सौ रुपए प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ शासन द्वारा भी तीन सौ रुपए बोनस का भुगतान भी किया जाएगा, जिससे यहां के किसानों को मोटा धान 2050 रुपए प्रति क्विंटल और पतला धान 2070 रुपए प्रति क्विंटल की दर पर बिकेगा। उन्होंने कहा कि किसानों को कम लागत में अधिक आय के लिए निरंतर प्रोत्साहित किया जा रहा है। इसके लिए केन्द्र सरकार द्वारा मिट्टी के स्वास्थ्य का परीक्षण का कार्य भी प्रारंभ किया गया, जिससे खेत की उर्वरता बनी रहे और किसानों को अधिक से अधिक लाभ हो। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा कम पानी में अधिक सिंचाई के लिए ‘पर ड्राप मोर क्राॅप‘ का संदेश देते हुए ड्रिप सिंचाई और स्प्रिंकलर की सिंचाई को प्रोत्साहित करने का कार्य किया जा रहा है। सांसद ने कहा कि किसानों को बिचैलियों से बचाने के लिए किसानों को संगठित करने के साथ ही उन्हें कृषि के साथ साथ कृषि से जुड़े व्यापार के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मंडियों को आॅनलाईन करने से किसानों को उनकी उपज को सही दाम पर बेचने की स्वतंत्रता मिल रही है। इसके साथ ही कृषि उत्पादक समूह बनाकर किसान देश में कहीं भी अपना उत्पाद बेच सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को आर्थिक तरक्की के लिए नई तकनीक को अपनाना जरुरी है और किसानों को नई तकनीक से अवगत कराने के लिए किसान चैनल भी प्रारंभ किया गया है। उन्होंने इस चैनल के माध्यम से दी जाने वाली जानकारियों को देखने और उन पर अमल करने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि कृषि महाविद्यालय और उद्यानिकी महाविद्यालय द्वारा भी किसानों को मार्गदर्शन देने का कार्य किया जा रहा है तथा किसान इस मार्गदर्शन का उपयोग अच्छी कृषि के लिए कर सकते हैं।

इस अवसर पर आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री केदार कश्यप ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के कल्याण के लिए किए जा रहे प्रयासों का प्रभाव बस्तर में दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि अब बस्तर के किसान भी आधुनिक कृषि की ओर तेजी से रुख कर रहे हैं, जिससे यहां के किसान भी कम उपज में अधिक उत्पादन प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा सिंचाई के लिए निःशुल्क बिजली जैसी योजनाओं के कारण बस्तर में ड्रिप सिंचाई और स्प्रिंकलर सिंचाई का रकबा तेजी से बढ़ रहा है और इसके साथ ही अब यहां के किसान ड्रेगनेट का उपयोग भी कृषि के लिए कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को आधुनिक कृषि के साथ ही संगठित और एकीकृत कृषि पर भी ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि जो किसान आधुनिक तकनीकी के साथ कृषि कार्य कर रहे हैं, उनसे दूसरे किसानों को भी प्रेरणा लेने की आवश्यकता है तथा ऐसे किसानों की सहायता के लिए छत्तीसगढ़ शासन पूरी तरह तत्पर है। मंत्री ने कहा कि खेती किसानी के लिए सबसे बड़ी जरुरत पानी की होती है तथा कोसारटेडा जैसी किसानों की बहुप्रतीक्षित मांग को पूरा करने का कार्य छत्तीसगढ़ शासन द्वारा किया जा चुका है। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ शासन की कल्याणकारी योजनाओं से प्रभावित होकर यहां के किसान बेहतर कृषि के लिए प्रेरित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि शासन किसानों को ब्याजमुक्त ऋण और तीन एचपी और पांच एच के सिंचाई पम्पों के सीमित उपयोग को निःशुल्क बिजली के साथ ही दुर्गम क्षेत्रों में सोलर पम्पों की स्थापना भी की जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही किसानों को कम लागत में कृषि कार्य के लिए यंत्रीकरण को प्रोत्साहित किया जा रहा है तथा विभिन्न प्रकार के कृषि यंत्र बहुत ही कम लागत पर अनुदान में उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

इस अवसर पर स्काई योजना के तहत 240 कृषि अध्ययनरत विद्यार्थियों को मोबाइल का वितरण किया गया नदी किनारे सिंचाई कर रहे किसानों को 140 इलेक्ट्रॉनिक 3 एचपी की पंप का वितरण किया गया राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना अंतर्गत 17 पंप का वितरण मुख्यमंत्री मनरेगा मजदूर को टिफिन वितरण प्रधानमंत्री सिंचाई योजना अंतर्गत पांच कृषक भाइयों को स्प्रिंकलर सेट का वितरण बस्तर ब्लाक में ग्राम मुण्डागांव गांव में उद्यानिकी विभाग द्वारा विभिन्न सामग्रियों का भी वितरण किया गया। इसके साथ ही पांच उत्कृष्ट किसानों को दस-दस हजार रुपए पुरस्कार के तौर पर दिए गए। कार्यक्रम में प्रगतिशील किसान श्री कमल किशोर कश्यप, कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता डाॅ. मुखर्जी, उद्यानिकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता डाॅ. डीएस ठाकुर, कृषि विज्ञान केन्द्र के समन्वयक डाॅ. जीपी आयाम कृषि विभाग के उप संचालक श्री कपिल देव दीपक सहित बड़ी संख्या में किसानगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com