मुख्यमंत्री ग्राम सांकरा में आयोजित श्रीरामचरित मानस सम्मेलन में हुए शामिल

रायपुर, 06 मार्च 2019 मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज धमतरी जिले में नगरी विकासखण्ड के ग्राम सांकरा में आयोजित नौ दिवसीय श्रीरामचरित मानस सम्मेलन में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि परम्परा के अनुसार छत्तीसगढ़ माता कौशिल्या का मायका है और भगवान श्रीराम छत्तीसगढ़ के भांचा। इसीलिए छत्तीसगढ़ में भांजे के चरण छूने की परम्परा है। उन्होंने कहा कि यह श्रृंगी ऋषि की पावन धरा है, जिन्होंने राजा दशरथ के लिए संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ करवाया था। 
    मुख्यमंत्री श्री बघेल ने इस अवसर पर कहा कि आगामी एक अप्रैल से हर परिवार को 35 किलो चावल खाद्यान्न और पोषण सुरक्षा योजना के अंतर्गत मिलेगा। यदि परिवार में छह सदस्य हैं तो 42 किलो, 7 सदस्य वाले परिवार को 49 किलो और 8 सदस्यों वाले परिवार को 56 किलो चावल मिलेगा। उन्होंने नशा बंदी के लिए समाज से सहयोग का आव्हान करते हुए कहा कि  नशा एक सामाजिक बुराई है। सभी समाज के बुजुर्गों से निवेदन है कि वे परस्पर बैठकर शराबबंदी की मुहिम के लिए आगे आएं। इस सामाजिक बुराई को समाप्त करने के लिए समाज के सभी वर्ग एक साथ सामने आएं और एकजुट होकर इसे समाप्त करने में अपनी भूमिका सुनिश्चित करंे। 
    कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने महत्वाकांक्षी योजना नरवा, गरवा, घुरवा अउ बारी के बारे में अपनी बात रखते हुए कहा कि गौमाता की सेवा से आमदनी होगी ही, साथ ही गोबर गैस प्लांट लगाकर गोबर गैस कनेक्शन स्थापित कर रसोई के लिए मुफ्त ईंधन पैदा कर सकते हैं, जिससे महंगा गैस सिलेंडर लेने की आवश्यकता नहीं होगी। इसी तरह ग्राम स्तर पर गौठान के लिए जगह सुरक्षित करने और बाड़ी की घेेराबंदी कर सब्जियों की पैदावार के साथ-साथ गौवंश के लिए हर चारा उगाने की भी सफल कोशिश की जा सकती है। 
    इस अवसर पर सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव, पूर्व मंत्री श्री माधव सिंह ध्रुव, पूर्व विधायक श्रीमती अंबिका मरकाम, अशोक सोम सहित कलेक्टर श्री रजत बंसल के अलावा मानस सम्मेलन आयोजन समिति के सदस्यगण तथा बड़ी संख्या मंे ग्रामीणजन उपस्थित थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com