रक्तदान शिविर का शुभारंभ और यातायात उद्यान में पौध-रोपण

“शाला सिद्धि” और “हमारी शाला ऐसी हो” कार्यक्रम 25 हजार शालाओं में लागू
नॉलेज हब पोर्टल से स्कूली विद्यार्थियों को उपयोगी जानकारी देने के प्रयास
संपूर्ण प्रदेश में 17 से 25 सितम्बर तक होंगे सेवा कार्य : मुख्यमंत्री श्री चौहान
भोपाल : सोमवार, सितम्बर 17, 2018 मध्यप्रदेश में स्कूली विद्यार्थियों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने के लिये पिछले वर्षो में राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर ठोस प्रयास किये गये है। इसी श्रृंखला में प्रदेश की 25 हजार शालाओं में ‘शाला सिद्धि’ ‘हमारी शाला ऐसी हो’ कार्यक्रम लागू किया गया है। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन विश्वविद्यालय, नई दिल्ली ने सरकारी शालाओं के मूल्यांकन एवं सुधार के लिये एक फ्रेमवर्क ‘शाला सिद्धि’ कार्यक्रम तैयार किया है। कार्यक्रम के जरिये बच्चों को भयमुक्त और आनन्ददायी वातावरण में सीखने का अवसर मिल रहे है।

कार्यक्रम में शालायें स्वयं का सतत् मूल्यांकन और बाह्रा मूल्यांकन कर कार्य-योजना बना रही हैं। योजना का विस्तार अब 12 हजार नई सरकारी शालाओं में करने का कार्यक्रम तैयार कर लिया गया है। स्कूल शिक्षा विभाग ने जिला शिक्षा अधिकारियों को कार्यक्रम की सतत् मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिये हैं। पिछले वर्ष प्रतिभा पर्व के दौरान जिलों के करीब 1600 अधिकारियों ने शाला सिद्धि कार्यक्रम में शाला मित्र के रूप में सहयोग दिया। कार्यक्रम में सफलतापूर्वक मूल्यांकन का कार्य किया गया। इसी कार्यक्रम में प्रत्येक विकासखण्ड के एक जनशिक्षा केन्द्र को उत्कृष्ट जनशिक्षा केन्द्र के रूप में चिन्ह्रित किया गया। यह केन्द्र आस-पास की शालाओं के लिये मेन्टर के रूप में कार्य कर रहा है। कार्यक्रम में प्रदेश की सरकारी शालाओं में कक्षा पहली और दूसरी को पढ़ाने वाले शिक्षकों को मूलभूत दक्षताओं के संबंध विशेष प्रशिक्षण दिलवाने की व्यवस्था विभाग द्वारा की गई है। इसके साथ ही, गणित और विज्ञान विषय में कक्षा 6 से 8 और कक्षा 9 से 12 तक के शिक्षकों को विशेष सेवाकालीन प्रशिक्षण दिलवाया जा रहा है।

प्रदेश की सरकारी शालाओं में आईआईटी, मुंबई के सहयोग से शैक्षणिक गुणवत्ता के लिये खेल प्रोजेक्ट लागू किया गया है। इस प्रोजेक्ट के माध्यम से कक्षा पहली से तीसरी तक के लिये विभिन्न विषयों गणित, हिन्दी और अंग्रेजी पर केन्द्रित चार्ट और कार्यक्रम तैयार किये गये हैं।

तैयार किया गया नॉलेज हब पोर्टल

सरकारी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों तथा छात्रों के लिये नॉलेज शेयरिंग नेटवर्क तैयार किया गया है। शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के ज्ञान स्त्रोत, विचार-विमर्श, विद्यार्थियों द्वारा पूछे गये प्रश्न और उसके उत्तर, अन्य उपयोगी साइट की लिंक यू-ट्यूब चैनल में प्रारंभ की गई है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संपूर्ण प्रदेश में 17 से 25 सितम्बर तक सेवा कार्य होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज शासकीय मोतीलाल नेहरू महाविद्यालय मेंरक्तदान शिविर और यातायात उद्यान में पौधरोपण कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने महाविद्यालय में रक्तदान शिविर का शुभारंभ किया और यातायात उद्यान में पौध-रोपण किया। इस अवसर पर सांसद श्री आलोक संजर, महापौर श्री आलोक शर्मा, अध्यक्ष नगर निगम श्री सुरजीत सिंह चौहान और विधायक श्री सुरेन्द्रनाथ सिंह उपस्थित थे।

रक्तदान-जीवनदान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रक्तदान जीवनदान है। उन्होंने रक्तदाताओं को दूसरों को जीवन देने के लिये बधाई दी। श्री चौहान ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता की ओर से जन्म दिवस की बधाई दी। उन्होंने बताया कि श्री मोदी के जन्म दिवस से पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती तक संपूर्ण प्रदेश में सामाजिक सहयोग से निरंतर सेवा के कार्य निरंतर किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी नया भारत बनाने में जुटे हैं। मध्यप्रदेश की जनता उनके साथ खड़ी है। रक्तदान कार्यक्रम में बड़ी संख्या में रक्तदाता छात्र-छात्राएं मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं के साथ सेल्फी भी खिंचवाई।

वृक्ष है, तो मानव जीवन है

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वृक्ष है, तो मानव जीवन है। उन्होंने बताया कि लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जन्म दिवस प्रदेश में सेवा दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। श्री चौहान ने कहा कि सेवा ही सबसे बड़ा उपहार है। संपूर्ण प्रदेश में नागरिक सेवा कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश का मान-सम्मान बढ़ा है। देश लगातार हर क्षेत्र में नई ऊँचाईयों को छू रहा है। हमारी अर्थ-व्यवस्था दुनिया में तेजी से आगे बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने यातायात पार्क में आम का पौधा लगाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

www.000webhost.com