Chhattisgarh

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जनता का आभार करने अमलेश्वर से पाटन तक किया रोड-शो

पाटन में विशाल जनसमूह को किया सम्बोधित, जामगांव (एम) के सरकारी कॉलेज का नामकरण दाऊ रामचंद्र साहू के नाम पर: श्री भूपेश बघेल मुख्यमंत्रीनेपाटनमेंविशालआमसभाकोसम्बोधितकिया, पाटन जनपद पंचायत को 2 करोड़ और कुम्हारी नगर पालिका को 5 करोड़ रूपए मंजूर रायपुर, 24 दिसम्बर 2018 मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने दुर्ग जिले के पाटन विकासखण्ड के ग्राम जामगांव (एम) के शासकीय महाविद्यालय का नामकरण दानवीर दाऊरामचन्द्र साहू के नाम पर करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आज शाम विकासखण्ड मुख्यालय पाटन में अमलेश्वर से पाटन तक रोड शो केसमापन के बाद विशाल आमसभा को सम्बोधित करते हुए यह घोषणा की। उन्होंने पाटन जनपद पंचायत में अधोसंरचना विकास कार्यों के लिए दोकरोड़ रूपए और कुम्हारी नगर पालिका में अधोसंरचना विकास कार्यों के लिए पांच करोड़ रूपए की मंजूर घोषणा भी की। रोड शो के दौरान क्षेत्र कीजनता ने जगह-जगह पर मुख्यमंत्री का आत्मीयता के साथ स्वागत किया। श्री बघेल ने इस दौरान सहजता और सरलता के साथ आम जनता सेमुलाकात कर आभार जताया। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी बोली में अपने सम्बोधन में जनता से मिले भरपूर आशीर्वाद और समर्थन का उल्लेख करतेहुए प्रदेश के विकास के लिए भी जनता से सक्रिय सहयोग का आव्हान किया। रोड-शो के दौरान मुख्यमंत्री श्री बघेल पूरे समय बिना किसी सुरक्षा घेराके जनता से मिलते नजर आए। मुख्यमंत्री ने रोड-शो की शुरूवात अमलेश्वर स्थित शिवमंदिर में पूजा-अर्चना करके की। उन्होंने  श्री हटकेश्वर मंदिर में भगवान भोलेबाबा काजलाभिषेक कर पुष्प व श्रीफल अर्पित किया और प्रदेश की सुख-शांति एवं समृद्धि की कामना करते हुए रोड-शो की शुरूवात की। वे ग्राम सांकरा,जामगांव-एम, तर्रा, लोहरसी, एसआरटी कालोनी, फुण्डा, देवादा, अरसनारा, देमार होते हुए सभा स्थल मण्डी प्रांगण पाटन पहुंचे। इन सभी जगहों परबड़ी संख्या में जनता ने मुख्यमंत्री श्री बघेल का आत्मीय स्वागत किया। ग्राम लोहरसी के अन्नदाताओं ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को धान से तौल करकिसानों की कर्जमाफी और धान का समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 2500 रूपए करने की घोषणा के लिए उनके प्रति आभार जताया। बाजार चैक तर्रा केग्रामीणों ने मुख्यमंत्री का ढोल-नगाड़ों के साथ खुशनुमा माहौल में स्वागत किया। पाटन पहुंचने पर हजारों की संख्या में आम जनता ने मुख्यमंत्री काजोशिला स्वागत किया। मुख्यमंत्री जब मुख्य मंच पर पहुंचे तब नागरिकगणों ने मुख्यमंत्री के स्वागत में गगन चुम्बी नारे लगाकर स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने मण्डी प्रांगण में आयोजित आभार रैली कार्यक्रम मंे क्षेत्र के लिए बड़ी सौगात दी। मुख्यमंत्री ने जामगांव-एममहाविद्यालय के लिए 60 एकड़ जमीन दान में देने वाले दानवीर दाऊ रामचंद साहू के नाम पर इस महाविद्यालय का नामकरण करने की घोषणाकी। मुख्यमंत्री ने उनकी दानवीरता का स्मरण करते हुए कहा कि दाऊ श्री रामचंद्र ने उदार मन से महाविद्यालय के लिए भूमि दान में दी है। उनकेयोगदान को सदैव याद रखा जाएगा। छत्तीसगढ़ के चार चिन्हारी, नरवा–घुरवा–गरवा–बारी, ऐला बचाना हे संगवारी: मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा – हमें छत्तीसगढ़ की संस्कृति-परम्परा, रीति-रिवाज को संजोए रखना है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य कीमूल पहचान और धरोहर को बनाए रखना सरकार का मुख्य संकल्प है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ी बोली में कहा कि नरवा-घुरवा-गरवा-बारी, ऐलाबचाना है संगवारी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य की इस मूल पहचान को सभी को मिल-जुलकर बचाना है। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य को सजाने-संवारने, ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने, किसानों की उपज की लागत कम करने और उनकी आय बढ़ाने के लिए सबसे सहयोग मांगा।  मुख्यमंत्री ने कहा कि विकासखण्ड स्तर पर फूड प्रोसेसिंग उद्योग लगाए जाएंगे। इससे किसानों को उनकी उपज का अच्छा दाम मिलेगा और रोजगारके अवसर भी पैदा होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने जो भी वादा जनता से किया है, उन सभी वादों को समयबद्ध कार्ययोजना बनाकर पूरा कियाजाएगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के पद पर शपथ लेने के एक घंटे के अंदर किसानों की कर्जमाफी का फैसला किया गया है। आने वाले समय मेंकिसानों का दो साल का बकाया धान बोनस देने के लिए कार्ययोजना निर्धारित की जा रही है। आने वाले बजट में इनका प्रावधान किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने झीरम घाटी नक्सली हमले के शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि झीरम घाटी घटना की जांच के लिए एसआईटीका गठन किया गया है। जिससे घटना के वास्तविक तथ्य सबके सामने आ सकेंगे। इसी तरह पूर्व में अनेक योजनाओं एवं कार्यों में हुए घोटालों कीजांच के लिए भी समिति बनायी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर में इस्पात कारखाना स्थापित करने के लिए टाटा उद्योग समूह द्वारा किसानोंएवं आदिवासियों की अधिग्रहित भूमि को वापस किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का मुख्य उद्देश्य राज्य में सुशासन स्थापित करना है।श्री बघेल ने गुरू पर्व माह में बाबा गुरूघासीदास के संदेशों को याद करते हुए कहा कि बाबा गुरूघासीदास ने सत्य-अहिंसा, प्रेम-भाईचारा का जो रास्तादिखाया है उस राह पर चलकर हम सबको प्रदेश के विकास में आगे बढ़ना है। समारोह को राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा, साजा विधायक श्रीरविन्द्र चैबे, भिलाई नगर के महापौर और विधायक श्री देवेन्द्र यादव ने भी सम्बोधित किया। इस दौरान जिला, जनपद पंचायत के प्रतिनिधि, पंचायतप्रतिनिधि, जिला और पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी और विशाल जनसमूह उपस्थित था।  

एसआईटी गठन से परिवार को अब न्याय मिलने की उम्मीद : श्रीमती नीला पटेल

शहीद नंदकुमार पटेल और शहीद दिनेश पटेल के परिजनों ने, किया मुख्यमंत्री श्री बघेल के फैसले का स्वागत रायपुर, 24 दिसम्बर 2018 झीरम घाटी हमले में शहीद छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री श्री नंदकुमार पटेल और उनके बेटे स्वर्गीय श्री दिनेश पटेल के परिजनों ने इस हमले कीउच्च स्तरीय जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठन फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने इसके लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के प्रति आभार प्रकटकिया है। स्वर्गीय श्री नंदकुमार पटेल की धर्मपत्नी श्रीमती नीला पटेल ने आज अपने गृह ग्राम नंदेली में चर्चा के दौरान कहा कि लगभग साढ़े पांच साल पहले की उसनक्सल वारदात में मैंने अपने पति और बेटे को खोया। इससे हमारे जीवन में अंधेरा छा गया था और हम अंदर से बिखर गए थे। झीरम की हिंसक नक्सलवारदात हमें गहरे जख्म दे गयी थी। श्रीमती पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा शपथ ग्रहण के तत्काल बाद इस मामले की एसआईटी जांच की घोषणासे हमारे परिवार को अब राहत महसूस हो रही है और हमें पूरी उम्मीद है कि अपराधी बेनकाब होंगे, पकड़े जाएंगे और हमारे परिवार को न्याय मिलेगा। उनकीपुत्रवधु (स्वर्गीय श्री दिनेश पटेल की धर्मपत्नी) श्रीमती भावना पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा विशेष जांच टीम (एसआईटी) बनाने के निर्णय से हम लोगों मेंअब जल्द इंसाफ मिलने की उम्मीद जागी है। चर्चा के दौरान स्वर्गीय श्री नंदकुमार पटेल की सुपुत्री श्रीमती सरोजनी पटेल और श्रीमती शशिकला पटेल ने भीएसआईटी गठन के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इससे हमारे मन को संतुष्टि मिली है और विश्वास है कि दोषी व्यक्ति जल्द कानून के शिकंजे में होंगेऔर हमें न्याय जरूर मिलेगा। ज्ञातव्य है कि छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ नेता और पूर्व गृह मंत्री श्री नंदकुमार पटेल और उनके सुपुत्र दिनेश की लगभग साढ़े पांच साल पहले मई 2013 में बस्तरजिले की झीरम घाटी में नक्सलियों द्वारा नृशंस हत्या कर दी गई थी। इतना ही नहीं बल्कि इस हमले में प्रदेश के अनेक वरिष्ठ नेता और आम नागरिक भीशहीद हुए थे। इस महीने की 17 तारीख को मुख्यमंत्री श्री बघेल ने शपथ ग्रहण के साथ ही इस पूरे मामले की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठनका ऐलान किया था। उनकी अध्यक्षता में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में इसके लिए प्रस्ताव भी पारित कर दिया गया। मुख्यमंत्री ने गृह विभाग को जल्द सेजल्द एसआईटी गठित करने के निर्देश दिए हैं।

Categories

www.000webhost.com